Gaming Politics Sports उत्तराखंड

BCCI से भी बड़ा कद है स्वघोषित चंद्रकांत आर्या का !!!

उत्तराखण्ड क्रिकेट को बीते साल बीसीसीआई टूर्नामेंट में खेलने का मौका मिला , और अंडर 23 , सीनियर टीम , महिला टीमों समेत लगभग सभी टीमों ने अच्छा प्रदर्शन किया । ये सभी टीमें उत्तराखंड क्रिकेट काँसेस कमेटी के बैनर तले खेली ।
नियम है कि किसी भी राज्य में इस तरह की कमेटी सिर्फ एक साल तरह सकती है , इस लिए अप्रैल में कमेटी भंग कर दी गयी और उत्तराखंड को पूर्ण रूप से क्रिकेट कमेटी बनाने की प्रक्रिया जोर पकड़ने लगी ।

उत्तराखंड के बच्चो के बेहतर भविष्य के लिए तीन एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बीसीसीआई के समक्ष एकजुट होकर प्रस्ताव रखा । जिसमे माहिम वर्मा , संजय गोंसाई व दिव्य नॉटियाल शामिल थे , लेकिन चौथी और सबसे विवादित एसोसिएशन यानिकि उत्तरांचल क्रिकेट एसोसिएशन के चन्द्रकान्त आर्या को शायद पहाड़ी बच्चो के भविष्य से ज्यादा कुर्सी और पैसों से प्यार है । वरना प्रदेशहित में मिल रहे इस मौके के विपरीत चन्द्रकान्त आर्या अपनी गोटियाँ फिट नही करता ।

दरअसल चन्द्रकान्त आर्या का नाम उस समय भी विवादों में रहा तब इसके खिलाफ रुड़की व हरिद्वार के कुछ परिजन नैनीताल हाईकोर्ट चले गए । चन्द्रकान्त आर्या पर रिश्वत लेने के आरोप लगे है ।https://youtu.be/0vd9isKj55s

लेकिन अब एक बार फिर उत्तरांचल क्रिकेट एसोसिएशन के चन्द्रकान्त आर्या विवादों में है ।

आर्या ने खुद ही एक पत्र जारी कर उसमें लिखा है कि सूत्रों के हवाले से पक्की खबर है कि बीसीसीआई से मान्यता उन्ही की एसोसिएशन को मिलने वाली है । और जल्द ही प्रदेश की सत्ता उनकर हाथ मे होगी । जोकि नियमो के बिल्कुल विरुद्ध है , अभी तक बीसीसीआई की तरफ से किसी भी तरह की कोई घोषणा नही हुई है ।

तो अब देखना बीसीसीआई के पदाधिकारियों की तरफ से चन्द्रकान्त आर्या पर क्या एक्शन लिया जाता है ।

About the author

Shweta Tripathi

Add Comment

Click here to post a comment