Celebrities Uncategorized उत्तर प्रदेश चुनाव दिल्ली प्रदेश

ग़ाज़ियाबाद का रण , कौन बनेगा सांसद !!!

आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर हॉट सीट कहे जाने वाले ग़ाज़ियाबाद मुकाबला रोचक हो चला है ।
जहां 2014 में जरनल वीके सिंह ने लगभग साढ़े चार लाख वोटो से जीत दर्ज कर सभी विरोधियों को पटखनी दी थी ,

 

वहीं इस बार मुकाबला आसान ना होगा ।

क्या है ग़ाज़ियाबाद सीट का गणित !!!

ग़ाज़ियाबाद लोकसभा सीट की बात करें तो इस सीट पर सबसे ज्यादा वोट ठाकुर बिरादरी से आते है । उसके बाद गुर्जर और त्यागियों का दबदबा भी इस सीट पर देखने को मिलता है ।
आपको बता दे इस बार गठबंधन से सुरेश बंसल ताल ठोक रहे है , जिसकी वजह से इस बार मौजूदा सासंद वीके सिंह की राह आसान नही मानी जा रही है । साथ ही हर सीट की तरह ब्राह्मण व दलित वोटर्स भी अपनी अलग जगह यहां रखते है ।

वीके सिंह की राह के रोड़े !!!


सुरेश बंसल :- सुरेश बंसल बसपा से विधायक रह चुकी है , और इस बार आनन फानन में सपा जॉइन कर मैदान में उतर रहे है । सपा – बसपा के अलावा रालोद भी यूपी में इस गठबंधन में भागीदार है , ऐसे में बसपा के मूल दलित वोटर्स , सपा के यादव साथ मे जाट बिरादरी सुरेश बंसल के साथ जा सकती है । फिलहाल तो मौजूदा सांसद वीके सिंह की राह में सबसे बड़ा ब्रेकर सुरेश बंसल के रूप में ही नजर आ रहा है ।

सेवाराम कसाना :- सेवाराम कसाना गुर्जर बिरादरी से ताल्लुक रखते है व देहात क्षेत्र में सेवाराम कसाना का अपना जनाधार है । सेवाराम कसाना शिवपाल यादव की नई नवेली प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ( सेक्यूलर ) से मैदान में है । सेवाराम कसाना देहात में लागतात चुनावी सभाएं व डोर टू डोर कैम्पेन कर रहे है जहां जाट – गुर्जर मतदाताओं का सेवाराम को भरपूर साथ मिलता दिखाई दे रहा है । इसके अलावा साहिबाबाद विधानसभा क्षेत्र से भी लागतात सेवाराम कसाना को वोट देने के स्वर उठ रहे है ।

डॉली शर्मा :- कांग्रेस से डॉली शर्मा मैदान में है , डॉली शर्मा वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नरेंद्र शर्मा की सपुत्री है और लगातार ग़ाज़ियाबाद क्षेत्र में सक्रिय रहती है । डॉली शर्मा ने ग़ाज़ियाबाद मेयर का चुनाव भी लड़ा , जहां बीजेपी की आशा शर्मा ने उन्हें पटखनी दी । अब देखना होगा डॉली शर्मा इस लोकसभा चुनाव में कितने वोट बटोरने में कामयाब होती है ।

अपने – पराये :- वीके सिंह के सामने सबसे बड़ी चुनोती है अपनो से पार पाने की व नाराज़ कार्यकर्ताओ को मनाने की ।
बलेश्वर त्यागी , लोनी से विधायक नंदकिशोर गुर्जर , प्रशांत चौधरी , जिला पंचायत अध्यक्ष पवन मावी व ब्रजपाल तेवतिया जैसे कई नाम और इस लिस्ट में है जो वीके सिंह को बाहरी बता लगातार खिलाफत करते नजर आ रहे है ।

अब देखना होगा लाखो से जीतने वाले वीके सिंह इस बार किस तरह से इस चक्रव्यूह से पार पा पाते है.

Advertisements

Advt.